Mayank Agarwal Biography in Hindi | क्रिकेटर मयंक अग्रवाल का जीवन परिचय

Mayank Agarwal (मयंक अग्रवाल), एक अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी हैं. जो दाएँ हाथ से बल्लेबाजी करते हैं और दाएँ हाथ से ही ऑफ स्पिन गेंदबाज़ी भी करते हैं. मयंक अग्रवाल के जीवन के हर पहलू के बारे में इस आर्टिकल हम आपको बताएँगे. साथ ही जानिए कि मयंक ने कब क्रिकेट की दुनिया में कदम रखा और कैसे रिकॉर्ड कायम करके आगे बढ़।

मयंक अग्रवाल का व्यक्तिगत जीवन (Mayank Agarwal Personal Life)

मयंक का जन्म 16 फरवरी 1991 कर्नाटक के बंगलुरू में हुआ. अनुराग अग्रवाल इनके पिता है. जबकि इनकी मां का नाम सुचित्रा है. इन्होंने अपनी शुरूआती पढ़ाई बिशप बॉयज स्कूल से की और कॉलिज की पढ़ाई जैन यूनिवर्सिटी से पूरी की. मंयक बचपन से क्रिकेट से प्यार करते थे और इसी प्यार को इन्होंने एक दिन पा भी लिया. कहते हैं कि जब आप किसी भी चीज को शिद्दत के साथ चाहते हैं तो उसे एक दिन पा भी लेते है और इन्होंने भी बचपन में देखे सपने को पूरा किया और क्रिकेटर बन गए |

मयंक अग्रवाल इंडियन क्रिकेट टीम में काफी देरी से शामिल हुए लेकिन इसके बावजूद भी थोड़े ही समय में अग्रवाल ने अच्छा रिकॉर्ड कमा लिया है. मयंक अग्रवाल ने अभी तक टीम इंडिया के लिए 11 टेस्ट मैच खेले हैं और यहां 17 पारियों में उन्होंने 974 रन बनाए हैं. मयंक अग्रवाल की टेस्ट क्रिकेट में औसत 57.29 रही है. अग्रवाल ने अभी तक टेस्ट क्रिकेट में 3 शतक लगाए हैं दो दोहरे शतक इनके नाम हैं और यहां टेस्ट क्रिकेट में और चार अर्द्धशतक इनके बल्ले से इनके हैं|

आईपीएल के अंदर बात करें तो आईपीएल में इन्होंने 77 मैच खेले हैं यहां पर इनके नाम 1270 रन रहे हैं। आईपीएल में इनकी स्ट्राइक रेट 128.54 की है. साथ ही आईपीएल में मयंक अग्रवाल 5 अर्धशतक लगा चुके हैं. 3 वनडे मैच खेलने के बाद इनके नाम अभी तक 36 रन रहे हैं वनडे में मयंक अग्रवाल को अभी बहुत अधिक मौके नहीं मिल पाए हैं.

मयंक अग्रवाल का टेस्ट करियर देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह खिलाड़ी टीम इंडिया के लिए आगे चलकर कितना महत्वपूर्ण खिलाड़ी साबित हो सकता है. मयंक अग्रवाल को टीम इंडिया में मौका काफी देर से मिला। साल 2017 और 18 के रणजी सत्र में मयंक अग्रवाल ने 1160 बनाकर टीम इंडिया में अपनी जगह बनाई थ।

मयंक अग्रवाल का शुरूआती जीवन (Mayank Agarwal Early Life)

मयंक अग्रवाल का जन्म 16 फरवरी 1991 को बेंगलुरु कर्नाटक में हुआ था. मयंक अग्रवाल अग्रवाल पंडित जाति से संबंधित हैं और इनको खाने में मुख्य रूप से शाकाहारी भोजन पसंद है। मयंक अग्रवाल के पिता का नाम प्रणव कुमार पांडे हैं इनकी माता का नाम सुचिता सिंह है साथ ही इनकी पत्नी आशिता सूद है. मयंक अग्रवाल की पढ़ाई बेंगलुरु के कॉटन बॉय स्कूल से हुई. साथ ही इन्होंने कॉलेज की पढ़ाई जैन विश्वविद्यालय से पूरी की. अपने करियर के शुरुआती समय में मयंक अग्रवाल कर्नाटक टीम में प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेला करते थे |

साथ ही कर्नाटक की टीम में सलामी बल्लेबाज हुआ करते थे. मयंक अग्रवाल की सलामी बल्लेबाजी के चलते इनको आईसीसी क्रिकेट विश्व कप में पहली बार अंडर-19 में चुना गया था और उसी साल में अंडर-19 टीम के टॉप स्कोर भी चुने गए थे. 2010 में कर्नाटक प्रीमियर लीग के अंदर उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन करके मैन ऑफ द सीरीज अपने नाम की थी. 2017 में मयंक अग्रवाल ने कर्नाटक प्रीमियम लीग के अंदर अच्छा प्रदर्शन किया था और यह महाराष्ट्र के खिलाफ नाबाद 304 रन बनाने में कामयाब रहे थ।

मयंक अग्रवाल का करियर (Mayank Agarwal Career)

मयंक ने अपने घरेलू करियर की शुरुआत 2010 में टी20 प्रारूप में की, उनकी तेजतर्रार बल्लेबाज़ी के कारण और 2011 में आईपीएल अनुबंध हुआ। चीजें उनके लिए तेज गति से हो रही थीं और यह केवल वहाँ से सही काम करने की बात थी। . हालाँकि, प्रदर्शन आईपीएल में कम से कम कहने के लिए कम था, जबकि घरेलू मोर्चे पर, संख्या बेहतर थी, हालांकि अभी भी उनकी वास्तविक क्षमता के करीब कहीं नहीं थी। हर जगह उनके कैलिबर की झलक दिखाई दे रही थी, लेकिन निराशा भी जब वह अनिवार्य रूप से एक शुरुआत को फेंक देंगे। फिर भी, उनका सफेद गेंद का खेल निश्चित रूप से एक स्थिर प्रगति दिखा रहा था।

2014-15 सीज़न में, मयंक फिटनेस के मुद्दों से ग्रस्त हो गए क्योंकि प्रबंधन स्पष्ट रूप से उनकी काया से खुश नहीं था। नतीजा प्रशिक्षण पर अधिक ध्यान केंद्रित था और इससे जाहिर तौर पर उसे अपने मानसिक खेल में भी मदद मिली। ट्रिम और शेप में, मयंक पहले से कहीं ज्यादा आत्मविश्वासी लग रहे थे, लेकिन उन्हें अपना रास्ता आगे बढ़ाने के लिए कहीं से करियर बदलने वाले सीज़न की आवश्यकता थी। यह 2017-18 के रणजी सीज़न में हुआ था, जब वह 1000 से अधिक रन लुटाते हुए बस निडर हो गए थे और रन चार्ट में शीर्ष पर चले गए थे।

मयंक अग्रवाल का अंतर्राष्ट्रीय करियर (Mayank Agarwal International Career)

जहां तक बात मयंक अग्रवाल के इंटरनेशनल करियर की है तो वह भी बड़ा शानदार रहा. 2018 में मयंक को वेस्टइंडीज के खिलाफ भारत के होने वाली श्रंखला के लिए भारत की टेस्ट टीम में चयनित किया गया. लेकिन दुर्भाग्यवश उन्हें वहा जगह नहीं मिल पाई. इसके बाद दिसंबर 2018 में ही एक खिलाड़ी के चोट लगने के बाद ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत की होने वाली संख्या के लिए भारत की टेस्ट टीम में चुना गया. 26 दिसंबर 2018 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ क्रिकेट में पदार्पण किया | ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट डेब्यु पर मेलबर्न क्रिकेट गांड में इन्होंने पहली पारी में 76 रन बनाए. जो ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ, पहले टेस्ट मैच में किसी भारतीय खिलाड़ी का हाई स्कोर रहा.

2019 में मंयक ने कई कमाल किए. 2019 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेलते हुए मयंक ने पहली ही पारी में 215 रन बनाकर सभी को चौका दिया और इस पारी इन्होंने 6 छक्के और 23 चौके लगाए. साथ ही स्ट्राइक रेट 57.94 रहा लगातार. टेस्ट क्रिकेट में मयंक का यह पहला शतक था और पहला ही शतक उन्होंने दोहरा शतक लगाया.

2019 में टेस्ट क्रिकेट में भारत की ओर से इन्होंने सबसे ज्यादा 754 रन बनाए. 2019 में दो दोहरे शतक लगाने वाले वह एकमात्र खिलाड़ी रहे. 2019 वर्ल्ड कप में अग्रवाल के प्रदर्शन को देखते हुए और विजय शंकर चोटिल होने पर भारतीय टीम में शामिल किया गया लेकिन सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से हारने के कारण अपने कोई मैच खेलने का मौका नहीं पाया. लेकिन यदि मयंक का प्रदर्शन ऐसा ही रहा तो आगे भी मयंक को ज़रूर मौका मिलेगा |

मयंक अग्रवाल के जीवन की उपलब्धियां/ रेकॉर्ड्स (Records and अचीवमेंट)

  • 26 दिसंबर 2018 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट मैच में डेब्यू करते हुए मयंक अग्रवाल ने 6 रनों की एक पारी खेली थी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ किसी भारती के द्वारा डेब्यु मैच में यह सर्वाधिक स्कोर ह।
  • अक्टूबर 2019 के अंदर पहले टेस्ट में साउथ अफ्रीका के खिलाफ मयंक अग्रवाल ने एक शतकीय पारी खेली थी और बाद में इसी शतक को वह दोहरे शतक में बदलने में कामयाब रहे थे. मयंक अग्रवाल ने 215 रनों की पारी 371 गेंदों में खेली थ।
  • दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दोहरा शतक लगाने के बाद मयंक अग्रवाल भारत के दूसरे ओपनर बल्लेबाज बन गए थे जिन्होंने की दोहरा शतक लगाया ह।
  • आईपीएल के अंदर मयंक अग्रवाल, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, दिल्ली डेयडेविल्स और साथ ही किंग्स इलेवन पंजाब के लिए खेल चुके हैं. रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए सीजन खेलते हुए इन्होंने 700 से अधिक रन बनाए थ।
  • अपने फर्स्ट क्लास करियर में मयंक अग्रवाल एक तिहरा शतक लगा चुके हैं. नवंबर 2017 में महाराष्ट्र के खिलाफ खेलते हुए रणजी ट्रॉफी में मयंक अग्रवाल ने 304 रनों की एक पारी खेली थ।
  • मयंक अग्रवाल की फर्स्ट क्लास करियर पर नजर डालें तो यहां पर 62 मैचों में 48.49 की औसत से 4849 रन नजर आते हैं. मयंक अग्रवाल फर्स्ट क्लास करियर में 11 शतक और 25 अर्धशतक लगाए। लिस्ट ए के अंदर भी मयंक अग्रवाल 13 शतक और 15 अर्धशतक लगा चुके हैं इनके नाम 4031 रह।

भारत-न्यूजीलैंड टेस्ट सीरीज का पहला (2021 December) मैच कानपुर में चल रहा है। न्यूजीलैंड की ओर से बल्लेबाजी करते हुए फैंस ने दूसरी स्लिप पर मयंक अग्रवाल का स्टैंड देखा। कानपुर में, मयंक उसी क्षेत्ररक्षण की स्थिति में थे जब भारतीय स्पिनरों आर अश्विन, रवींद्र जडेजा और अक्षर पटेल सभी ने गेंदबाजी की। मयंक ने स्लिप पर घुटने टेक दिए, यह सोचकर कि बल्ले के किनारे उस पिच पर फील्डर तक नहीं पहुंचेंगे जहां गेंद ज्यादा ऊपर नहीं उठती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: